Tuesday, November 22, 2016

भारतीय इतिहास नोटस कैप्सूल -2 Indian History Notes Hindi Capsule 2

मेरे विगत आलेखों में मैने आपको बताया था आप भारतीय इतिहास के व्यापक सिलेबस को देखकर धबराएं नही तथा इसे 10-10 प्रश्नों के कैप्सूलों के रूप में बांट लेवे तथा एक-एक कैप्सूल याद करते जावें तो इससे आप भारतीय इतिहास पर अपनी मजबूत पकड़ बना सकतें है।

ऐसा इसलिये सभवं होता है कि 1-1 कदम चलने से हजारों मीलों कि दुरी पार हो जाती है तो आज इस श्रखलां का कैप्सूल सं. 3 प्रस्तुत है आपने यदि विगत 2 कैप्सूल डाउनलोड नही किये हैं तो पहले उनको निम्न लिकों से डाउनलोड करके याद कर लेवें:

भारतीय इतिहास नोटस कैप्सूल -2:Indian History Notes Hindi Capsule 2  
1.शेरशाह के समय में राज्य की आय का मुख्य स्त्रोत लगान था । 
2.शेरशाह की लगान व्यवस्था ‘‘रैयतबाड़ी’’ कहलाती थी ।
3.अकबर के समय का पहला विद्रोह 1564 में उजबेकों ने किया था । 
4. बीरबल की मुत्यु 1586 में ब्लुचियों के  विद्रोह में हुयी थी ।
5. जैन धर्म के आचार्य ‘‘हरीविजय सुरि’’ को जगतगुरू की उपाधि अकबर ने दी थी
6. मुहम्मद सैय्यद ;मीर जुमलाद्ध नामक फारसी व्यापारी नें शाहजहाॅं को कोहिनुर हीरा      भेंट किया था ।
7. वीरजी बोहरा ‘‘मुगलकाल में सूरत का एक प्रसिद्ध व्यापारी था 
8.जहांगीर ने रविवार व व्हस्पतिवार को पशु हत्या बंद करने की आज्ञा दी थी 
9. मुगल चित्रकला का सर्वाधिक विकास जहाॅंगीर के काल में हुआ था 
10. थियोफिजीकल सोसायटी की स्थापना 1875 में मैडम ब्लावत्सकी तथा कर्नल आल्काॅट नें न्यूयार्क में थी 
उपरोक्त 10 बिन्दूओं को याद करने के साथ साथ आप इतिहास को रोचक कहानी के रूप में निम्न लिकं पर जाकर पढ सकतें हैः
इतिहास का यह ब्लोग आपको कैसा लगता है अपने विचार कमेंट मे अवश्य दर्ज करें ताकी आपके सुझावों के आधार पर इस ब्लोग को नया रूप दिया जा सके।
आप इतिहास के अपने पंसदीदा टोपिक को कैप्सूल के रूप में बना कर मुझे  mahesh2073@yahoo.com पर शेयर कर सकते हैं चुनिदां कैप्सूलों को इस ब्लोग पर प्रकाशित किया जावेगा।
मेरे सिविल सेवा की तैयारी करने वाले पाठकों को आधुनिक भारत के इतिहास की तैयारी हेतु स्पैक्ट्रम की निम्न पुस्तक अवश्य पढने का सुझाव दिया जाता हैः-