Monday, September 30, 2019

-ःः राजस्थान का जनरल नोलेज कैप्सूल-03ःः-Rajasthan General Knowledge Questions Capsule 3

-ःः राजस्थान का जनरल नोलेज कैप्सूल-03ःः-Rajasthan General Knowledge Questions Capsule 3
दस अति महत्वपूर्ण राजस्थान की विगत प्रतियोगी परीक्षाओं में आये प्रश्नों का आसान कैप्सूल के रूप में संग्रह रोज 2 कैप्सूल याद करें व 100 दिन में 2000 प्रश्नों का बैंक बनायें 

1. इराडी आयोग रावी व्यास नदी जल विवाद के लिए गठित किया गया है।
2. भाखडा नाँगल परियोजना में राजस्थान का हिस्सा 22.15 प्रतिशत है।
3. पोग बाँध व्यास नदी पर बनाया गया है।
4. राजस्थान में मिट्टी का बना बाँध पाँचना बाँध है।
5. पाँचना बाँध करौली जिलें में गुढला गाॅव के नजदीक है।
6. माही बजाज सागर परियोजना की विधुत उत्पादन क्षमता 140 मेगावाट है।
7. बीसलपुर बाँध टोंक जिले में बनास नदी पर स्थित है।
8. गाँधी सागर बाँध मध्यप्रदेश में चम्बल नदी पर स्थित है।
9. भाखडा नाँगल परियोजना भारत की सबसे बडी नदी घाटी परियोजना है।
10. कमांड क्षेत्र विकास कार्यक्रम का उद्धेश्य सिंचाई क्षमता का सृजन है।
इसके साथ साथ आप इस कैप्सूल में जो फोटो देख रहे हैं उसमें भी दस प्रश्न बोनस के दिये गये हैं आप इमेज से भी 10 प्रश्नों के नोटस बना सकते हैं।
इन सभी प्रश्नों को एक साथ पीडीएफ फाईल के रूप में निम्न लिंक से डाउनलोड करें:-
https://drive.google.com/file/d/14qXPtImnhZc3p2HWcdRbqIQ0YTvO4SMv/view?usp=sharing

Rajasthan GK pdf general knowledge pdf for rajasthan competitive exams
rajasthan LDC exam notes hindi, rajasthan junior accountant exam notes hindi, RAS hindi notes.





-ःः राजस्थान का जनरल नोलेज कैप्सूल-02ःः-Rajasthan General Knowledge Questions Capsule 2

स अति महत्वपूर्ण राजस्थान की विगत प्रतियोगी परीक्षाओं में आये प्रश्नों का आसान कैप्सूल के रूप में संग्रह रोज 2 कैप्सूल याद करें व 100 दिन में 2000 प्रश्नों का बैंक बनायें। 

Rajsthan General Knowledge Capsule 1
-ःः राजस्थान का जनरल नोलेज कैप्सूल-02ःः-Rajasthan General Knowledge Questions Capsule 2
1. चम्बल सिंचाई परियोजना राजस्थान-मध्यप्रदेश की है।
2. राणा प्रताप सागर बाँध चितौडगढ जिलें में रावतभाटा के पास चम्बल नदीं पर चुलीयाॅ जलप्रताप के नजदीक बनाया गया है।
3. जवाहर सागर बाँध (कोटा बाँध ), बोराबास (कोटा) के पास बना हुआ, राणासागर बाँध का पिकअप बाँध है।
4. जवाहर सागर बाँध का निर्माण चम्बल नदीं पर किया गया है।
5. राजस्थान में अणुशक्ति केन्द्र्र रावतभाटा में राणाप्रताप सागर बाँध पर है।
6. माही बजाज सागर परियोजना गुजरात व राजस्थान की संयुक्त परियोजना है।
7. माही बजाज सागर परियोजना बोरखेडा (बाॅसवाडा) में माही नदीं पर स्थित है।
8. जाखम परियोजना प्रतापगढ जिलें के अनुपगढ गाॅव के पास जाखम नदी पर है।
9. जाखम परियोजना आदिवासी कृषकों के लिए सर्वाधिक लाभप्रद है।
10. मेजा बाँध भीलवाडा जिलें में कोठारी नदी पर सिथत है।
इसके साथ साथ आप इस कैप्सूल में जो फोटो देख रहे हैं उसमें भी दस प्रश्न बोनस के दिये गये हैं आप इमेज से भी 10 प्रश्नों के नोटस बना सकते हैं।
इन सभी प्रश्नों को एक साथ पीडीएफ फाईल के रूप में निम्न लिंक से डाउनलोड करें:-
https://drive.google.com/file/d/1R6fIDXv-QUdKWlFLStEKXJnkcNOl0aif/view?usp=sharing

Rajasthan GK pdf general knowledge pdf for rajasthan competitive exams
rajasthan LDC exam notes hindi, rajasthan junior accountant exam notes hindi, RAS hindi notes.


Wednesday, September 25, 2019

राजस्थान का जनरल नोलेज कैप्सूल-01 Rajasthan General Knowledge Questions Capsule 1

दस अति महत्वपूर्ण राजस्थान की विगत प्रतियोगी परीक्षाओं में आये प्रश्नों का आसान कैप्सूल के रूप में संग्रह रोज 2 कैप्सूल याद करें व 100 दिन में 2000 प्रश्नों का बैंक बनायें। 
10 Very important questions for rajasthan gk rajasthan RAS exam TRA Jr. Accountant police constable patwari clerk grade 2 etc exams
राजस्थान का जनरल नोलेज कैप्सूल-01 Rajasthan General Knowledge Questions Capsule 1

1. राजस्थान में कुल बोए गये क्षेत्र का 42.90 प्रतिशत सिंचित है।
2. राजस्थान में कुएँ व नलकूप से सिंचाईजयपुर में होती है।
3. गंग नहर सतलज नदीं पर फिरोजपुर जिले के हुसैनीवाला से से निकाली गई है।
4. गुडगाँव नहर हरियाणा-राजस्थान की संयुक्त परियोजना है। 
5. नवम्बर 1984 में राजस्थान नहर का नया नाम इंदिरा गाँधी नहर किया गया था।
6. इंदिरा गाँधी नहर (राजस्थान नहर) के प्रणेता श्री कँवर सैन थें।
7. इंदिरा गाँधी नहर का उद्गम स्थल हरिके बैराज है।
8. इंदिरा गाँधी नहर की कुल लम्बाई 649 किलो मीटर है।
9. इंदिरा गाँधी नहर में 07 लिफ्ट नहरें है।
10. इंदिरा गाँधी नहर का अंतिम छोर गडरा रोड बाडमेर तक है।
इसके साथ साथ आप इस कैप्सूल में जो फोटो देख रहे हैं उसमें भी दस प्रश्न बोनस के दिये गये हैं आप इमेज से भी 10 प्रश्नों के नोटस बना सकते हैं।
इन सभी प्रश्नों को एक साथ पीडीएफ फाईल के रूप में निम्न लिंक से डाउनलोड करें:-
https://drive.google.com/file/d/1-hU183HpKQcquv2yB6U7kzpN_gHdkvQw/view?usp=sharing

Rajsthan GK Capsule 2 Link      Rajsthan GK Capsule 3 Link
Rajasthan GK pdf general knowledge pdf for rajasthan competitive exams
Download Mini Notes of Indian History here:-
Mini indian History Notes

Tuesday, November 22, 2016

भारतीय इतिहास नोटस कैप्सूल -2 Indian History Notes Hindi Capsule 2

मेरे विगत आलेखों में मैने आपको बताया था आप भारतीय इतिहास के व्यापक सिलेबस को देखकर धबराएं नही तथा इसे 10-10 प्रश्नों के कैप्सूलों के रूप में बांट लेवे तथा एक-एक कैप्सूल याद करते जावें तो इससे आप भारतीय इतिहास पर अपनी मजबूत पकड़ बना सकतें है।

ऐसा इसलिये सभवं होता है कि 1-1 कदम चलने से हजारों मीलों कि दुरी पार हो जाती है तो आज इस श्रखलां का कैप्सूल सं. 3 प्रस्तुत है आपने यदि विगत 2 कैप्सूल डाउनलोड नही किये हैं तो पहले उनको निम्न लिकों से डाउनलोड करके याद कर लेवें:

भारतीय इतिहास नोटस कैप्सूल -2:Indian History Notes Hindi Capsule 2  
1.शेरशाह के समय में राज्य की आय का मुख्य स्त्रोत लगान था । 
2.शेरशाह की लगान व्यवस्था ‘‘रैयतबाड़ी’’ कहलाती थी ।
3.अकबर के समय का पहला विद्रोह 1564 में उजबेकों ने किया था । 
4. बीरबल की मुत्यु 1586 में ब्लुचियों के  विद्रोह में हुयी थी ।
5. जैन धर्म के आचार्य ‘‘हरीविजय सुरि’’ को जगतगुरू की उपाधि अकबर ने दी थी
6. मुहम्मद सैय्यद ;मीर जुमलाद्ध नामक फारसी व्यापारी नें शाहजहाॅं को कोहिनुर हीरा      भेंट किया था ।
7. वीरजी बोहरा ‘‘मुगलकाल में सूरत का एक प्रसिद्ध व्यापारी था 
8.जहांगीर ने रविवार व व्हस्पतिवार को पशु हत्या बंद करने की आज्ञा दी थी 
9. मुगल चित्रकला का सर्वाधिक विकास जहाॅंगीर के काल में हुआ था 
10. थियोफिजीकल सोसायटी की स्थापना 1875 में मैडम ब्लावत्सकी तथा कर्नल आल्काॅट नें न्यूयार्क में थी 
उपरोक्त 10 बिन्दूओं को याद करने के साथ साथ आप इतिहास को रोचक कहानी के रूप में निम्न लिकं पर जाकर पढ सकतें हैः
इतिहास का यह ब्लोग आपको कैसा लगता है अपने विचार कमेंट मे अवश्य दर्ज करें ताकी आपके सुझावों के आधार पर इस ब्लोग को नया रूप दिया जा सके।
आप इतिहास के अपने पंसदीदा टोपिक को कैप्सूल के रूप में बना कर मुझे  mahesh2073@yahoo.com पर शेयर कर सकते हैं चुनिदां कैप्सूलों को इस ब्लोग पर प्रकाशित किया जावेगा।
मेरे सिविल सेवा की तैयारी करने वाले पाठकों को आधुनिक भारत के इतिहास की तैयारी हेतु स्पैक्ट्रम की निम्न पुस्तक अवश्य पढने का सुझाव दिया जाता हैः-

Thursday, July 21, 2016

चन्दु की भारतीय इतिहास यात्रा भाग 7 Chandu journey of Indian history part 7

चन्दु की भारतीय इतिहास यात्रा भाग 6 से आगे । इस कहानी को भाग एक से पढने के लिये निम्न लिंक पर क्लीक करेंः- 

चन्दू इतिहास यात्रा भाग एकअगले दिन प्रातः जब चन्दू सोकर उठा तब चाय पीते-2 उसके मन में कल स्कूल में हूयी घटनाओं के विचार चल रहे थें तब अचानक उसके मन में ऋगवैदिक काल की यात्रा करने का विचार आया ताकि कल जो उसका चिंकी के साथ विचार विमर्श हुआ था उसके बारे में ओर ज्यादा जानकारी हो सके । 


 चन्दू ने अपनी टाईम मशीन में ऋगवैदिक सभ्यता का काल 1500 ई. पू. से 1000 ई. पू. फीड कर दिया तथा आखें बन्द करके वैदिक काल में जाने की प्रतिक्षा करने लगा ।
 जब काफी देर तक कोई हलचल नहीं हुयी तब चन्दू ने आखें खोल कर टाईम मशीन के स्क्रीन पर देखा तो वहा एरर मैसेज फलैश हो रहा था कि ‘‘ आप 1500 ई. पू. से 1000 ई. पू. एक साथ 500 वर्ष का समय पहीं भर सकते कोई एक वर्ष भरें ।’’ 
 तब चन्दू ने 1200 ई. पू. भरा तथा पलक झपकते ही अपने आप को एक विशाल उफनती हुयी नदी के किनारे पाया चन्दू ने मन में सोचा ‘‘ शायद यही सरस्वती नदी होगी ।’’ पास ही एक पर्वत शिखर था जिसका नाम मूजवन्त संस्कृत में लिखा था चन्दू को याद आया कि इतिहास में पढाया गया था कि ऋगवेद में हिमालय ओर उसकी चोटी मूजवन्त का उल्लेख मिलता है
 अचानक सामने से एक विशाल लश्कर आता दिखायी दिया तो चन्दू ने अदृश्य होने का बटन दबा दिया तथा लश्कर में शामिल हो गया । समूह के लोग संस्कृत में बात कर रहे थे तथा सौभाग्य से चन्दू की संस्कृत काफी मजबूत थी फिर भी उनकी संस्कृत भाषा वर्तमान में चन्दू के पाठयक्रम में पढाये  जाने वाली संस्कृत से काफी क्लीष्ट प्रतित हो रही थी । 
 यह लश्कर किसी ‘‘विशपती’’ का था चन्दू को याद आया कि वैदिक काल में कई गावों का समूह विश कहलाता था तथा इसका मुखियाॅ ‘‘विशपती’’ होता था । ये विशपती किसी अनु नामक कबीले से सबंधित थे जो जनपति से मिलने जा रहे थे । 
 चन्दू को इतिहास की मैडम श्रीमती लोपामुद्रा अययर की बातें याद रही थी कि विशों का का समूह जन होता था तथा जन का अधिपती जनपति होता था । 
चन्दू लश्कर के साथ जनपति के दरबार में पहुच गया जहा बहुत से विशपति थे तथा राजा ( जनपति ) को गोप्ता जनस्य तथा पुराभेता आदि नामों से सबोंधित कर रहे थे । चन्दू ने राजदरबार में सभा, समिति, विदथ तथा गण जैसी कबीलाई परिषदें देखी जिनमें महिलाए भी उच्च पदों पर आसीन थी । 
 चन्दू घूमता-2 सैनिक विभाग में पहुच गया वहा उसने शर्ध, व्रात और गण आदि सेना की ईकाईया देखी तथा काफी समय व्यतित हो जाने व भुख लगने से उसने टाईम मशीन में वापस जाने का बटन दबा दिया । 
 शेष अगले भाग में जो 20 दिन -30 दिन में प्रकाशित होगा तब तक श्रखंला आपको कैसी लगी कमेटं में अवश्य दर्ज करें ।

Popular Posts